राष्ट्रीय आयर्वेद दिवस हिंदी करेन्ट अफेयर 2020

  • राष्ट्रीय आयर्वेद दिवस । राजस्थान के राष्ट्रोप आपूर्वद संस्थान जयपुर में 25 अक्टूबर 2010 चौथा अपूर्वद दिवस आयोजित किया जाएगा ।
  • पुस्तक – ‘ जयप्रकाश तुम लौट आओ ‘ इस संस्थान में चन्चतरी पूजन और ‘ राष्ट्रीय धनवंतरी आयुर्वर । 12 अक्टूबर , 2019 को बिहार के राज्यपाल फागू चौहान ने पुस्तक पुरस्कार – 2 ‘ समारोह आयोजित किया जाएगा , जिसमें लोकसभा । ‘
  • जयप्रकाश तुम लौट आओ ‘ का विमोचन किया । अध्यक्ष श्री ओम चिडल मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित रहेंगे । इस पुस्तक की लेखिका ममता मेहरोत्रा हैं ।
  • इस अवसर पर 24 अक्टूबर , 2019 को एक राष्ट्रीय सम्मेलन ‘ दीय यह पुस्तक जगप्रकाश नारायण जीवन – दर्शन पर आधारित है । के लिए आयुर्वेद ‘ भी आयोजित किया जाएगा ।
  • जयप्रकाश नारायण ने इंदिरा गांधी को पदच्युत करने हेतु संपूर्ण भारत सरकार के अयुष मंत्रालय ने 2016 से प्रत्येक वर्ष धनवंतरी ।
  • क्राति नामक आदोलन चलाया थाजयप्रकाश नारायण को ‘ लोकनायक ‘ जयंती ( धनतेरस के दिन आयुर्वेद दिवस मनाने का निर्णप लिया कहा जाता है । या । इस अवसर पर मंत्रालय 3 – 4 आयुर्वेद विशेषज्ञों की राष्ट्रीय धनवंतरी आयुर्वेद पुरस्कार ‘ से भी समानित करता है , जिसमें । कन्याश्री विश्वविद्यालय प्रशस्ति – पत्र , ट्राफी ।
  • धनवंतरी की मूति ) और पांच लाख रुपये का नकद पुरस्कार शामिल हैं ।
  • 11 अक्टूबर , 2019 को अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस पर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने लड़किया के सशक्तिकरण हेतु राज्य हिम तेंदुओं की गणना के लिए पहले राष्ट्रीय प्रोटोकॉल को गादिया जिले में कन्याश्री विश्वविद्यालय और राज्य भर में कन्याश्री का शुभारंभ कॉलेज खोलने का निर्णय लिया ।
  • केन्द्रीय पर्यावरण , वन और जलवायु परिवर्तन मामलों के मंत्री प्रकाश मुख्यमंत्री ने जनवरी माह में नादिया जिले के वृष्णापर में नए जावड़ेकर ने अंतरराष्ट्रीय हिम तेंदुआ दिवस ( 23 अक्तूबर को ) के अवसर विश्वविद्यालय की आधारशिला रखी थी । पर देश में हिम तंदुओं की गणना के लिए पहले राष्ट्रीय प्रोटोकॉल का – कन्याश्री विश्वविद्यालय में केवल नहिलाएं ही प्रवेश ले सकेंगी ।
  • शुभारभ किया पश्चिम बगाल सरकार ने वर्ष 2013 में लड़कियों के सशक्तिकरण – हर वर्ष 21 अक्तूबर को मनाये जाने वाले हिम तेंदुआ दिवस हेतु कन्याशी योजन की शुरुआत की थी । ( International Snow Leopard Day ) का उद्देश्य इन प्राणियों का संरक्षण और हिमालय में सुन्दर वन्य जीवन की रक्षा करता है । इस योजना के शुरू होने के बाद से अब तक यसकार द्वारा इस देश म हिम तंदुओं को गणना का अपने किस्म का पहला कार्यक्रम योजना हेतु 7000 करोड़ रुपये का बजट आवंटित किया जा चुका है । वैज्ञानिक विशेषज्ञों द्वारा उन राज्यों / संघ शासित प्रदेशों के सहयोग ।
  • इस योजना का मुख्य उद्देश्य लड़कियों की स्कूली शिक्षा सुनिश्चित से विकसित किया गया है , जहां हम तेंदुए पाए जाते । इन करना और 18 वर्ष की आयु से पहले उनके विवाह को रोकना है । राज्यों / संघ शासित प्रदेशों में लाख , जम्मू – कश्मीर , हिमाचल प्रदेश , वर्ष 2017 में इस योजना के लिए संयुक्त राष्ट्र ने पश्चिम बगाल उत्तराखंड , सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश शामिल हैं ।
  • सरकार को अपने सर्वोच्च लोक सेवा पुरस्कार से सम्मानित किया था । हिम तेंदुए 12 देशों में पाए जाते हैं । उन देशों में भारत नेपाल , भूटान , चीन , मंगोलिया , रूस , पाकिस्तान , अफगानिस्तान , फिर्गिस्तान , जल्द टिकट मुहैया कराने के लिए “ वन टच एटीवीएम ‘ । कजाकिस्तान , तालिकस्तान और उज्वेकिस्तान शामिल है । भारतीय रेलवे ने मुंबई उपनगरीय नेटवर्क पर लाखों यात्रियों को पर्यावरण मंत्रालय की पहल पर हिम तेंदुआ परियोजना ( Project जल्द टिकट पाने की सुविधा मुहैया कराने के लिए 42 उपनगरीय स्टेशनों SnowLeopard ) चलाई जा रही है ।
  • इसका उद्देश्य काफी ऊंचाई पर ‘ वन टच एटीवीएम ‘ ( one touchATVM ल्गाए है । पर मौजून वन्यजीवों की आबादी और उनके प्रवास की भारत की रेल यात्री 42 उपनगरीय स्टेशनों पर 24 अक्टूबर 2019 में से ही इस अनोखी प्राकृतिक विरासत को आपसी सहभागिता की नीतियों और नई मशीन का लाभ उठा सकते है ।
  • इस नई मशीन से यात्रियों की कारवाइयों के गाध्या से बढ़ावा देकर उनका संरक्षण करना है । प्रतीक्षा अवधि काफी घट जाएगी और उन्हें लंबी – लबी कतारों में अब से खड़ा नहीं होना पड़ेगा । इस नई मशीन में उपयोगकर्तओं ( युजर ) के अनुकूल आसान प्रक्रिया का उपयाग किया गया है
  • जिससे मुबई उपनगरीय नेटवर्क को टिकट प्रणाली पर भार काफी कम हो जाएगा । 4 उपनगरीय स्टेशनों कुल मिलाकर 92 एटीवीएम लगाए गये हैं ।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *